Skip to main content

चंदन की खेती से कमाए 6 लाख रूपए ये है तरीका ? आज के समय में देखा जाए तो चंदन की खेती कर किसान एक पौधे से कम से कम 6 लाख रुपए से भी ज्यादा पैसे कमा रहे हैं

चंदन की खेती से कमाए 6 लाख रूपए ये है तरीका ? आज के समय में देखा जाए तो चंदन की खेती कर किसान एक पौधे से कम से कम 6 लाख रुपए से भी ज्यादा पैसे कमा रहे हैं

चंदन की खेती से कमाए 6 लाख रूपए ये है तरीका !

आज के समय में देखा जाए तो चंदन की खेती कर किसान एक पौधे से कम से कम 6 लाख रुपए से भी ज्यादा पैसे कमा रहे हैं। तो सोचिए जब एक पेड़ से 6 लाख रुपए से ज्यादा कमाए जा सकते हैं, तो ऐसे कई पेड़ लगाकर आप अपनी कमाई करोड़ों में बड़ी आसानी से कर सकते हैं।

यदि आप भी चंदन की खेती कर मुनाफा कमाना चाहते हैं, तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें। क्योंकि आज के इस पोस्ट में हम आपको चंदन की खेती कैसे करें और इससे पैसे कैसे कमाए इससे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं।

चंदन के वृक्ष से कितना मुनाफा होगा ?

जानकारी के अनुसार, यदि आप चंदन के एक पेड़ से 5 से 6 लाख रूपए की कमाई कर सकते हैं, तो ऐसे में यदि आप अपने एक एकड़ जमीन में लगभग 600 चंदन के पेड़ लगाते हैं। तो इसकी कमाई के बारे में चर्चा करें, तो इस 600 चंदन के वृक्ष से आप 12 वर्ष में लगभग 30 करोड़ रूपए कमा सकते हैं। तो आइए विस्तार से जानते हैं की चंदन की खेती कैसे करें।

चंदन की खेती में आपको किन किन बातों का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है ?

यदि आप भी चंदन की खेती कर पैसे कमाना चाहते हैं, तो इसकी खेती करने से पहले आपको बहुत सारी बातों का खास ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। जैसे कि एक्सपोर्ट्स के कहने के अनुसार चंदन के वृक्ष को अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है। इसलिए जब भी आप अपने चंदन की खेती करने के बारे में सोचें, तो इसके लिए आप कही ऊपर के क्षेत्र का ही चयन करें।

चंदन के वृक्ष के साथ आपको होस्ट का वृक्ष भी लगाना होता है क्योंकि यह एक ऐसा परजीवी वृक्ष होता है जो अकेले बड़ा नही हो सकता। इसलिए आपको चंदन की वृद्धि के लिए होस्ट का वृक्ष लगाने की आवश्यकता होती है। अब आपके मन में कई तरह के प्रश्न उठ रहे होंगे जैसे की चंदन के वृक्ष के साथ होस्ट के वृक्ष का होना क्यों आवश्यक है।

तो इस प्रश्न का उत्तर यह है की होस्ट की जड़े बिल्कुल चंदन को जड़े की तरह ही होते हैं और इसी वजह से होस्ट के वृक्ष के कारण चंदन की ग्रोथ काफी तेजी से होता है। आप चाहे तो चंदन के पेड़ से लगभग 4 से 5 फीट की दूरी पर होस्ट का वृक्ष लगा सकते हैं।

चंदन का वृक्ष कितने का आता है ?

यदि आप चंदन का वृक्ष खरीदने जाएंगे तो चंदन का पेड़ आपको कम से कम 100 से 130 रुपए में प्राप्त हो जाएगा। इसके अलावा आपको होस्ट का वृक्ष कम से कम 50 से 60 रुपए में आसानी से प्राप्त हो जाएगा।

चंदन का वृक्ष किस समय लगा सकते हैं ?

मुख्य रूप से आप चंदन का वृक्ष किसी भी महीने में लगाना चाहे तो लगा सकते हैं। बस इसके लिए आपको इस बात का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है कि आपका चंदन का वृक्ष कम से कम 2 साल से ढाई वर्ष का हो। यदि आप 2 से ढाई वर्ष के चंदन के पौधे को लगाएंगे, तो इससे आपका पौधा किसी भी मौसम में खराब नहीं होगा। 

आप जहां भी चंदन का वृक्ष लगाएं तो उसके आस-पास समय-समय पर साफ सफाई करते रहे। आपको इस बात का भी विशेष ख्याल रखना होगा कि इसके जड़ के आस पास अधिक पानी न ठहर पाए। चंदन के वृक्ष को ज्यादा से ज्यादा सप्ताह में दो से 3 लीटर पानी की आवश्यकता होती है।

चंदन का उपयोग कहां कहां किया जाता है ?

     आयुर्वेद में चंदन का इस्तेमाल काफी ज्यादा मात्रा में किया जाता है।

     Beauty products निर्माण करने में चंदन का उपयोग किया जाता है।

     परफ्यूम जैसे प्रोडक्ट को बनाने में चंदन का उपयोग सबसे अधिक किया जाता है।

     इसके अलावा इसे तरल पदार्थ के रूप में भी रेडी किया जाता है।

चंदन कितने प्रकार के होते हैं ?

आम तौर पर दो प्रकार के चंदन के वृक्ष होते हैं पहला लाल चंदन और दूसरा सफेद चंदन। यदि आप लाल चंदन के वृक्ष की खेती करना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको 4.5 से 6.5 PH वाली मिट्टी की आवश्यकता होती है। वही पर यदि आप सफेद चंदन की खेती करना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको 7.5 PH वाली मिट्टी की आवश्यकता होती है। यही वजह है कि लाल चंदन का वृक्ष ज्यादातर दक्षिण भारत में पाए जाते हैं।

चंदन का वृक्ष कैसे तैयार होता है ?

आपको चंदन के वृक्ष को स्टार्टिंग के 8 वर्षो तक तक कोई भी बाहरी सुरक्षा प्रदान करने की आवश्यकता नहीं होती है। ऐसा इसलिए क्योंकि स्टार्टिंग के 8 वर्षो तक इसमें सुगंध नहीं होती है। आप ध्यान देंगे तो आपको पता चलेगा की जब चंदन की वृक्ष की लकड़ी के पकने की विधि शुरू हो जाती है तब उससे धीरे धीरे सुगंध आने लगते हैं। इसी समय आपको इस वृक्ष की सुरक्षा करने की आवश्यकता होती है। जब भी चंदन का वृक्ष लगाए तो अपने खेतों में वृक्ष की सुरक्षा के लिए घेराबंदी अवश्य कर लें। 

सबसे महंगी लकड़ी कौन सी होती है ?

मार्केट में सबसे महंगी लकड़ी चंदन की ही होती है। यदि आप मार्केट में लकड़ी खरीदने जाएंगे तो आपको ये 26 से 30 हजार रूपए प्रति किलो प्राप्त होता है। देखा जाए तो आपको एक चंदन के वृक्ष से कम से कम 15 से 20 किलो लकड़ी तो आसानी से प्राप्त हो जाएगा। ऐसे में आप चाहें तो एक चंदन के वृक्ष से पांच से 6 लाख रूपए तो काफी सरलता से कमा सकते हैं।

हालांकि, आज के समय में सरकार के माध्यम से चंदन की खरीद बिक्री पर बैन लगा दिया गया है। ऐसे में आपको चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि सरकार आपसे चंदन खरीदता है।

निष्कर्ष

दोस्तों, आज के इस पोस्ट में मैने आपको चंदन की खेती से लाखो करोड़ों रुपए कैसे कमाए इसके बारे में जानकारी प्रदान किया है और आशा करता हूं की आपको ये पोस्ट पसंद आया होगा।

Comments

Popular posts from this blog

ई कॉमर्स क्या होता है? आइए जानिए ई कॉमर्स के बारे में What is E Commerce? Know Full About E Commerce

ई कॉमर्स क्या होता है ? भारत अब पूर्ण रूप से डिजिटली दुनिया की ओर बढ़ चुका है। क्योंकि, भारत में तकरीबन कार्य ऑनलाइन किया जा रहा है। चाहे कपड़े खरीदना हो, मोबाइल खरीदना हो, मोबाइल बेचना हो, टीवी, फ्रीज, इत्यादि सभी घर बैठे चुटकियों में खरीदा जा सकता है। दिलचस्प बात यह है की बहुत से ऐसे लोग हैं जो ऑनलाइन शॉपिंग, मोबाइल इत्यादि की खरीदारी तो कर लेते हैं। लेकिन, उन्हें यह जानकारी नहीं होती की जहां से वे कपड़े, मोबाइल, इत्यादि की खरीदारी कर रहे हैं। उसी को E Commerce कहा जाता है। मित्रों आज इस लेख के जरिए ई कॉमर्स क्या होता है ? ई कॉमर्स के लाभ क्या-क्या है ? ई कॉमर्स के नुकसान क्या-क्या है ? इत्यादि की डिटेल्स समझेंगे। What Is E Commerce In Hindi ? ऑनलाइन सामग्री खरीदना की प्रक्रिया और ऑनलाइन सामग्री बेचने की प्रक्रिया को ही E Commerce कहा जाता है। E Commerce को लोग इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स भी बोलते हैं। ई कॉमर्स के लाभ क्या-क्या है ? अगर देखा जाए तो E Commerce के कई सारे लाभ होते हैं। इसीलिए कई सारे व्यक्ति E Commerce के जरिए सामग्री खरीदना पसंद करते हैं। तो आइए नीचे E Commerce के लाभ क

कपूर के फायदे और नुकसान क्या है ? Benefits and Loss of Camphor

कपूर का इस्तेमाल खास तौर पर पूजा के सामग्री के तौर पर किया जाता है। जैसे की कोई भी हवन सामग्री में कपूर का इस्तेमाल किया जाता है। कपूर के बिना हवन की पूजा पूरी नहीं होती है। ज्यादातर लोग कपूर के बारे में इतना ही जानते होंगे। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कपूर के विभिन्न फायदे भी हैं और इन फायदों को आप जानकर काफी चौक जायेंगे। जी हां आज के हम इस पोस्ट में आपको कपूर के फायदे और नुकसान के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करने वाले हैं। यदि आप भी कपूर के फायदों के बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं, तो इस पोस्ट को लास्ट तक अवश्य पढ़ें। ●      स्कीन से संबंधित परेशानी में कपूर के फायदे ? यदि आपके भी स्कीन से संबंधित कोई भी समस्या है, तो आपको उसे दूर करने के लिए कपूर का इस्तेमाल करना चाहिए। जैसे कि बहुत लोगों के चेहरे पर पिंपल्स या फिर फुंसी टाइप की समस्या हो जाती हैं जो कि दिखने में काफी खराब लगता है। लोग इससे काफी परेशान हो जाते हैं। यदि आप भी ऐसी कोई समस्या से जूझ रहे हैं, तो आपको कपूर का इस्तेमाल करना चाहिए। कपूर में ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो चेहरे के पिंपल्स इत्यादि को दूर करने में आ

खाद्य ट्रक व्यापार कैसे शुरू करें ? Know How to Start Food Truck Business?

 खाद्य ट्रक व्यापार कैसे शुरू करें ?  दोस्तों यदि आप भी किसी सफल बिजनेस प्लान की तलाश में है, तो आप खाद्य ट्रक बिजनेस की शुरुआत कर सकते हैं। रेस्टोरेंट के मुकाबले में खाद्य ट्रक बिजनेस आपके लिए सफल बिजनेस साबित हो सकता है। क्योंकि इस बिज़नेस को आरंभ करने के लिए आपको ना ही कोई स्थान की जरूरत होगी और ना ही आपको ज्यादा इन्वेस्टमेंट करना होगा। इस बिजनेस में आप की कमाई कितनी होगी यह पूरी तरह से आपके खाने के स्वाद पर निर्भर करता है।  इसलिए खाद्य ट्रक बिजनेस शुरू करने के लिए आपको इसके खाने के स्वाद पर ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता होती है। खाद तक बिजनेस की सबसे अच्छी बात यह है कि इसकी मांग काफी अधिक है और आने वाले समय में इस बिजनेस का बोलबाला पूरी दुनिया भर में होगी।  यदि आप भी खाद्य ट्रक बिजनेस की शुरुआत करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको इस आर्टिकल को लास्ट तक पढ़ना सबसे जरूरी है। इस बिजनेस की शुरुआत करने के लिए आपको इस बिजनेस से जुड़ी सब महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त होना जरूरी है। यदि आप सभी जानकारी हासिल करना चाहती है, तो आपको इस पोस्ट से सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हो जाएगी।  खाद्य